INDIA RCU

Other Links

Skip Navigation Links
IPR CLUB
RTI
Exam
Principal's Desk
Library
Contact Us
Scholarship
Code of Conduct
WHRC
SSR
Admin. Staff
Student Union
Part time Teachers



feedback



admin

admission

                         DEPARTMENT OF SANSKRIT


Introduction                       Course Outcomes B.A                     Course Outcomes M.A                   Faculty               Gallery


संस्कृत विभाग संस्कृत विभाग का प्रारम्भ स्नातक स्तर पर सर्वप्रथम शैक्षिक सत्र 1972-73 में हुआ। छः वर्षों तक निरन्तर स्नातक स्तर पर संस्कृत का अध्ययन-अध्यापन चलता रहा। और इसमें छात्रा-छात्राओं की निरन्तर वृद्धि के पफलस्वरूप शासन द्वारा वर्ष 1978-79 में स्नातकोत्तर स्तर पर संस्कृत विषय संचालित हुआ। प्रगति के पथ पर निरन्तर अग्रसर संस्कृत विषय में 1980 में छात्रा कुलानन्द रतूड़ी एवं 1981 में छात्रा देवेन्द्र दत्त पैन्यूली ने विश्वविद्यालय की सम्पूर्ण योग्यता सूची में एम.ए में प्रथम स्थान प्राप्त किया। इस समय डाॅ. पुरूषोत्तम डोभाल, डाॅ. शिवराम मौर्य, डाॅराम परसन तिवारी, डाॅ. कमला चैहान के अथक एवं निरन्तर प्रयास के पफलस्वरूप विभाग को गढ़वाल विश्वविद्यालय का शोध परीक्षा केन्द्र बनाया गया जिसमें 12 शोध परीक्षार्थी 1982 से 1990 के बीच पंजीकृत हुए जिसमें डाॅ. शिवराम मौर्य के निर्देशन में 5 छात्रा-छात्राएं डाॅ पुरूषोत्तम डोभाल के निर्देशन में 2 छात्रा छात्राएं एवं डाॅ. राम परसन तिवारी के निर्देशन में 2 छात्रा छात्राएं पंजीकृत हुए जिनमें से 5 छात्रा छात्राओं ने शोध उपाधि प्राप्त की। निरन्तर उन्नति के शिखर पर आरूढ इस विभाग में डाॅ. विश्वनाथ राम वर्मा, डाॅ. शशिकिरन मौर्य, डाॅ. सुशीला रणाकोटी ने अपना योगदान दिया और वर्ष 1998 में रेखा नौटियाल ने विश्वविद्यालय में संस्कृत में प्रथम स्थान प्राप्त किया। इस महाविद्यालय को संस्कृत विभाग में डाॅ. पुरूषोत्तम डोभाल जैसे प्रतिभा के धनी मनीषी अप्रतिम विद्वान् एवं तीनों भाषाओं हिन्दी संस्कृत एवं अंग्रेजी में धरा प्रवाह बोलने एवं लिखने एंव काव्यरचनाकार वाले प्राध्यापक मिले। साथ ही डाॅ. शिवराम मौर्य जैसे शोध निर्देशक, अद्वितीय विद्वान् एवं वक्ता मिले। इसी क्रम में डाॅ. विनय कुमार शुक्ल, डाॅ. राम सुमेर यादव, डाॅ. मंजुलता, डाॅ. इन्दु गुरूरानी ने प्राध्यापक के रूप में अनेक छात्रा छात्राओं को लाभान्वित किया। यहां से उत्तीर्ण संस्कृत के छात्रा विविध राजकीय माध्यमिक विद्यालयो, राजकीय महाविद्यालयों एवं अन्य प्रशासनिक सेवाओं में देश की सेवा कर रहे हैं। डाॅ. राम सुमेर यादव सम्प्रति लखनऊ विश्वरविद्यालय में प्रोपफेसर हैं जिन्होंने यहां पर विविध शोध परियोजनाओं पर कार्य किया। सम्प्रति पिछले 10 वर्षों के समय के दौरान डाॅ. संजीव भट्ट, डाॅ. वीरराघव खंडूड़ी आदि यहां पर कार्यरत रहे। सम्प्रति डाॅ. देवेन्द्र दत्त पैन्यूली, डाॅ. रेखा नौटियाल, डाॅ. विनोद कुमार उनियाल एवं डाॅ. वीरराघव खण्डूड़ी कार्यरत हैं।

विभाग के पथ प्रदर्शकों में डाॅ. पुरूषोत्तम डोभाल, डाॅ. शिवराम मौर्य, डाॅ. राम परसन तिवारी, डाॅ. कमला चैहान, डाॅ. विनय कुमार शुक्ल, डाॅ. रामसुमेर यादव का नाम प्रमुखता से लिया जा सकता है। संस्कृत विषय में यहां से निकले छात्रा नेट/सेट, तथा विविध प्रतियोगी परीक्षाओं में निरन्तर सपफलता की ओर अग्रसर हैं।

विभाग प्रभारी

Faculty Members

1. Dr. DEVENDRA DATT PAINULY           Resume Download

2.Dr. VEER RAGHAW KHANDURI            Resume Download

3. Dr. Rekha Nautiyal                                     Resume Download

4. Dr. Vinod Kumar Uniyal                             Resume Download

 


Various Committees | Prospectus | Academic Calender | Our Past Principals | NCC | NSS | Rover& Rangers | Facilities | List Of Holidays | Annual Function


Copyright Ⓒ 2018 - All Rights Reserved - gpgcuki.ac.in